हमसे बात करें : 01332-271184

हमारे बारे में

लड़कियों को समकालीन आधुनिक शिक्षा देने के उद्देश्य से महान दूरदर्शी महादेवी भटनागर और उनके पति श्री ज्योति स्वरूप भटनागर द्वारा 15 सितंबर, 1902 को महादेवी कन्या पाठशाला (MKP) कि स्थापना की गई ताकि उनमे ये भाव भी पैदा हो कि ज्ञान और हमारी प्राचीन सांस्कृतिक विरासत की अच्छाई है। अपने अस्तित्व के 104 साल के पाठ्यक्रम के दौरान जो संस्था सिर्फ 6 लड़कियों के साथ शुरू हुई थी आज देहरादून में स्तिस्थ MKP इंटरमीडिएट कॉलेज और MKP पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज में 6000 लड़कियों के साथ निरंतर अग्रसर है। अपने अस्तित्व की अवधि के दौरान संस्था को प्रतिष्ठित गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है जैसे कि 1906 में क्वीन मैरी विक्टोरिया जो एक भारतीय लड़कियों के स्कूल को देखना चाहती थी, स्वामी राम तीर्थ, लाला लाजपत राय, राष्ट्रीय नेताओं – पं. जवाहरलाल नेहरू, श्रीमती कमला नेहरू, श्रीमती विजय लक्ष्मी पण्डित, श्रीमती सरोजिनी नायडू, श्रीमती इंदिरा गांधी एवं अन्य प्रतिष्ठित व्यक्तियों और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया।
यद्यपि नियमित आधार पर पर्याप्त धन प्राप्त करने की एक बड़ी समस्या थी फिर भी संस्था ने उसके शिक्षकों की कड़ी मेहनत के साथ और जनता के समर्थन से एक स्थिर प्रगति जारी राखी। सन 1951 में इसको शैक्षणिक स्नातक (बी ए) की मान्यता प्राप्त हुई और सन 1963 में शैक्षणिक स्नातकोतर (एम् ए) की। बीच के वर्षों में नए क्षेत्रों में विविधीकरण को और नौकरी उन्मुख पाठ्यक्रमों को देखा। संस्था को MKP इंटर कॉलेज और MKP (पीजी) कॉलेज में विभाजित किया गया। MKP (पीजी) कॉलेज में पोस्ट ग्रेजुएट स्तर और स्नातक स्तर पर रसायन विज्ञान, अर्थशास्त्र, हिन्दी, अंग्रेजी, राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र, मनोविज्ञान, गृह विज्ञान और ड्राइंग और पेंटिंग कक्षा, कला, विज्ञान और वाणिज्य संकाय है। आज प्राथमिक, मध्यवर्ती और कॉलेज वर्गों में 6000 से अधिक शिक्षा प्राप्त लड़कियां हैं। MKP कॉलेज सोसायटी, विभिन्न स्थानों के छात्रों और विदेशी छात्रों की सुविधा के लिए आज दो गर्ल्स होस्टल्स चला रही है। हॉस्टल 300 से अधिक छात्रों के लिए आवास प्रदान करते हैं।

वर्ष 2002 के महादेवी कन्या पाठशाला के शताब्दी समारोह में माननीय राष्ट्रपति डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम जी ने उद्घाटन किया अपने संबोधन में लड़कियों के लिए व्यावसायिक पाठ्यक्रम की आवश्यकता पर बल दिया।

MKP कॉलेज सोसायटी द्वारा वर्ष 2006 में महिलाओ की सामाजिक-आर्थिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रदत्त व्यावसायिक शिक्षा की गुणवत्ता को पूरा करने के मिशन के साथ उनके सर्वांगीण विकास और व्यक्तित्व विकास के लिए महादेवी संस्थान प्रौद्योगिकी (MIT) को लांच किया। प्रक्रिया में पहले कदम के रूप में, एमसीए विधिवत तकनीकी शिक्षा के लिए अखिल भारतीय परिषद (एआईसीटीई) ने मंजूरी दे दी जो कि शैक्षणिक सत्र 2006-2007 से एमआईटी में शुरू हुआ एवं उसके बाद सत्र 2008-2009 से एमबीए कार्यक्रम शुरू हुआ। बाद के वर्षों के दौरान चयनित विषयों में बी.टेक शुरू करने के लक्ष्य के साथ विशेष रूप से महिलाओं के लिए संस्थान की एक व्यापक आधार प्रौद्योगिकी संस्थान के रूप में कल्पना की थी।


loading